सरस्वती’ में पहली बार छपी थी ‘मधुशाला’
स्मृतिपर्व पर बच्चन संग याद किए गए संपादकद्वय देवीदत्त शुक्ल, ठाकुर श्रीनाथ सिंह
प्रयागराज। 'मधुशाला' के सर्जक कवि डा.हरिवंशराय बच्चन की जयंती पर बुधवार को उनका भावपूर्ण स्मरण किया गया। बहुत कम लोगों को पता होगा कि यह रचना न सिर्फ यहीं लिखी गई बल्कि बच्चन के कथ्य, विषय और रचना कौशल को सम्मान देने तथा अंग्रेजी के युवा प्राध्यापक को हिन्दी के क्षेत्र में नई विधा के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से देवीदत्त शुक्ल और उनके सहायक संपादक ठाकुर श्रीनाथ सिंह ने पहली बार 'सरस्वती' में मधुशाला को प्रकाशित करके इसे साहित्य चर्चा का विषय बना दिया।
पं.देवीदत्त शुक्ल, पं.रमादत्त शुक्ल शोध संस्थान की ओर से इंडियन प्रेस परिसर में आयोजित स्मृति पर्व पर सचिव व्रतशील शर्मा ने कहा, मधुशाला सरस्वती के दिसंबर 1933 के अंक में पहली बार छपी थी। ठाकुर श्रीनाथ सिंह ने ही मधुशाला के छन्दों को प्रधान सम्पादक देवीदत्त शुक्ल के सामने प्रस्तुत किया, जिसके बाद वह चुने हुए छंदों के प्रकाशन को सहमत हुए। फिर तो मधुशाला और बच्चन एक दूसरे के पूरक हो गए। श्रीनाथ गुप्त ने उनका गीत सुनाया, 'दिन में होली, रात दिवाली रोज मनाती मधुशाला। गायक चन्द्रप्रकाश ने बच्चन की कविता 'इस पार प्रिये मधु है, तुम हो! उस पार न जाने क्या होगा' का गायन किया।
अवधमणि त्रिपाठी ने कहा, बच्चन पहले सिरसा, मेजा के लाला लक्ष्मीनारायण इंटर कॉलेज में अंग्रेजी के अध्यापक थे। फिर डा.एएन झा की प्रेरणा से इलाहाबाद विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग में प्राध्यापक हुए। वेदप्रकाश पांडेय ने संचालन और सुधीर कुमार गुप्त ने आभार ज्ञापित किया। संयोजन अनुपम सिन्हा एवं सुधांशु दुबे का रहा। कार्यक्रम में इंडियन प्रेस के प्रबंधक एसपी घोष,सुप्रतीक घोष, रवि ओमशरण, मनीष कुमार,संजयए रामबाबू, संदीप श्रीवास्तव, आलोक कुमार गुप्त आदि मौजूद थे।
अमर रहेगी मधुशाला
कवि बच्चन की याद में प्रयागराज सेवा समिति के दारागंज कार्यालय पर भाजपा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के महानगर संयोजक तीर्थराज पांडेय 'बच्चा भैया'की पहल पर हुई गोष्ठी में विष्णु दयाल श्रीवास्तव, रवि राज बादल आदि ने मधुशाला के गीतों का गायन करके उनकी स्मृतियों को ताजा किया। बच्चा भैया ने कहा, जब तक लोग इन कविताओं को गाएंगे, समझेंगे, तब तक मधुशाला अमर रहेगी। धर्मराज पांडेय ने स्वागत, भाजपा महिला मोर्चा मंडल अध्यक्ष अनुपमा पांडेय ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में केसी पांडे, भक्तराज पांडे, जीसी श्रीवास्तव, प्रशांत, अशोक अमित निषाद संजय यादव विनोद यादव मास्टर सुरेंद्र श्रीवास्तव आदि मौजूद थे।

Popular posts
वाराणसी : पिता ने तीन बेटियों के साथ की आत्महत्या, सट्टेबाजी के कारण डूबा था लाखों के कर्ज में
Image
ग़ैर जनपद से आए व्यक्ति के परीक्षण कराने का बिरोध करने पर कार्यबाही
आप से हाथ जोड़कर प्रार्थना है इस फोटो को एक एक व्यक्ति एवं एक एक ग्रुप में पहुंचा दो ये बच्चा किसकी है कोई पता नही लग पा रहा है और ये बच्चा अभी *सदर बाजार* थानेआगरा उत्तर प्रदेश में है,,,दया अगर आपके अंदर है तो इसे इगनोर मत करना ।
Image
लॉकडाउन  में  भी  बेच रहे थे शराब , पांच लोग गिरफ्तार । 
निजी विद्यालयों कॉन्वेंट स्कूलों की फीस ना जमा किए जाने के संबंध में मांग
Image