ग्राम्य विकास संस्थान, कादिरपुर बाराबंकी में पंचायत प्रतिनिधियों/कार्मिकों का एक दिवसीय ड्रग एब्यूज प्रिवेंशन विषयक कार्यशाला का आयोजन

बाराबंकी जिला ग्राम्य विकास संस्थान, कादिरपुर बाराबंकी में पंचायत प्रतिनिधियों/कार्मिकों का एक दिवसीय ड्रग एब्यूज प्रिवेंशन विषयक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का उद्घाटन जिला प्रशिक्षण अधिकारी डा0सीमा राठौर, बहराइच मेडिकल कालेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डा0अमरदीप पटेल एवं सत्र प्रभारी मनोज कुमार की उपस्थिति में किया गया। बाराबंकी जिले के पाॅच विकास खण्डो फतेहपुर, देवा, बंकी, हरख एवं मसौली से ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत अधिकारी, सचिव द्वारा कार्यशाला में प्रतिभाग किया गया।
उद्घाटन अवसर पर जिला प्रशिक्षण अधिकारी ने कहा कि नशा हमारे समाज के लिए कही न कही दुःख का कारण ही बनता है। चाहे वह शारीरिक हो चाहें मानसिक हो, चाहे व्यवहारिक हो, उन्होंने अपील करते हुए कार्यशाला में उपस्थित प्रतिभागियों से कहा कि आप सभी समुदाय से जुड़ हो अतः समुदाय में ऐसा करने का एक अथक प्रयास करें जिससे लोगों में बढ़ रही नशे की आदतों से दूर किया जा सके।
प्रशिक्षण कार्यशाला में डा0अमरदीप पटेल ने प्रतिभागियों से कहा कि ऐसे पदार्थो के सेवन से समुदाय को दूर रखा जाये, जिससे व्यवहारिक मानसिक, शारीरिक क्रियाकलापों मंे बदलाव आ जाता है और व्यक्ति  गलत दिशा में जीवन जीने की आदत डालने लगता है। जिससे उसके परिवार पर, उसके शरीर पर इसका बुरा असर पड़ता है। पटेल ने एनडीपीएस एक्ट के तहत सरकार द्वारा किये गये प्राविधानों पर विस्तृत रूप से चर्चा की।
कार्यशाला में मनोज कुमार, वरिष्ठ प्रशिक्षक ने प्रतिभागियों को नशे के ऐसे तीन प्रकार के बारे मंे प्रतिभागियों को आगाह किया और कहा कि आप सभी विशेष रूप से किशोरावस्था में प्रवेश कर रहें बच्चों को इससे बचने का उपाय बतायें और जागरूक करें, कि नशा हमारे विकास मंे बाधा उत्पन्न करता है। ना कि इससे कभी भी कोई प्रकार का लाभ होता है। नशा नाश की जड़ है। इससे सदैव दूर रहें।
इस अवसर पर पंकज कुमार सैनी, वरिष्ठ प्रशिक्षक हंसराज यादव, शिव कुमार आदि ने भी अपने विचार रखें। कार्यशाला के समापन अवस पर पर जिला ग्राम्य विकास संस्थान की ओर से सभी प्रतिभागियों को आभार व्यक्त करते हुए सत्र का समापन किया गया।