दोबारा अखिलेश के साथ आएंगे शिवपाल यादव? कौन बन रहा है राह में रोड़ा





अखिलेश के करीबियों का मानना है कि सपा अध्यक्ष नहीं चाहते कि पार्टी में एक बार फिर सत्ता के कई केंद्र बनें.



खास बातें



  • नतीजों के बाद लगा था साथ आएंगे चाचा-भतीजा

  • मुलायम सिंह यादव की है चाहत

  • लेकिन अखिलेश राजी नहीं हैं




लखनऊ: लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी (सपा) में फिलहाल एकता की तस्वीर धुंधली-सी दिखाई दे रही है. नतीजों के बाद ऐसा लग रहा था कि चाचा-भतीजा परिवार और पार्टी बचाने के लिए फिर एक होंगे, लेकिन अब यह बात बेदम लगने लगी है. लगातार दो लोकसभा चुनाव और एक विधानसभा चुनाव हारने के बाद अखिलेश पर परिवार को एक करने का दबाव बढ़ा है. खासकर सपा संस्थापक मुलायम सिह यादव चाहते हैं कि पार्टी को खड़ा करने में योगदान देने वाले छोटे भाई शिवपाल सिह यादव को दोबारा साथ लाया जाए. लेकिन अखिलेश राजी नहीं हैं. उन्हें लगता है कि शिवपाल की एन्ट्री से पार्टी में उनके एकाधिकार और वर्चस्व को खतरा पैदा हो जाएगा.

मुलायम ने शुरू की यादव परिवार को एकजुट करने की कवायद, अखिलेश और शिवपाल से की बात...


अखिलेश के करीबियों का मानना है कि सपा अध्यक्ष नहीं चाहते कि पार्टी में एक बार फिर सत्ता के कई केंद्र बनें. शिवपाल के आने से इसकी संभावना कई गुना बढ़ जाएगी. कुछ व्यक्तिगत बातें भी ऐसी रही हैं कि शिवपाल को लेकर अखिलेश कड़वाहट दूर नहीं कर पा रहे हैं.


लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के पराजित होने के बाद से समाजवादी नेताओं को एक मंच पर लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि प्रमुख नेताओं से अलग-अलग वार्ता में मुलायम सिंह यादव पुराने कार्यकर्ताओं को एक मंच पर लाकर भाजपा का विकल्प तैयार करने की इच्छा जता चुके हैं. 


सपा-बसपा की राह हुई अलग? इन 5 वजहों से टूट गया गठबंधन




राजनीतिक विश्लेषक रतनमणि लाल का कहना है कि "शिवपाल की ओर से कोई हिचक नहीं है. उन्हें लगता है कि उनकी वरिष्ठता के चलते अब वह पार्टी में जाएंगे तो उन्हें कोई बड़ा पद मिलेगा. शिवपाल अलग पार्टी बनाकर अपनी हिम्मत दिखा चुके हैं. इसलिए उनकी क्षमता पर भी कोई शक नहीं किया जा सकता है. अखिलेश और मुलायम दोनों जानते हैं कि सपा को यहां पहुंचाने में उनका बड़ा हाथ है."



लोकसभा चुनाव में यूपी में शिवपाल सिंह यादव की पार्टी को कितने मिले वोट, देखें




उन्होंने कहा, "शिवपाल को मालूम है कि उनकी इस बार पार्टी में क्या भूमिका होगी. वह अपनी पार्टी का विलय अपनी शतरें पर ही करेंगे. अभी फिलहाल उन्हें मनाने का प्रयास किया जा रहा है. वह जानते हैं कि उनका वह अपरहैंड हैं. वह श्रेय लेना चाहते हैं कि जिस पार्टी को मुलायम ने बनाया और अखिलेश ने डुबोया, उसे शिवपाल उबार सकते हैं. इसलिए इसमें शिवपाल को दिक्कत नहीं है. अखिलेश को दिक्कत होगी."



 









 

Popular posts
वाराणसी : पिता ने तीन बेटियों के साथ की आत्महत्या, सट्टेबाजी के कारण डूबा था लाखों के कर्ज में
Image
ग़ैर जनपद से आए व्यक्ति के परीक्षण कराने का बिरोध करने पर कार्यबाही
आप से हाथ जोड़कर प्रार्थना है इस फोटो को एक एक व्यक्ति एवं एक एक ग्रुप में पहुंचा दो ये बच्चा किसकी है कोई पता नही लग पा रहा है और ये बच्चा अभी *सदर बाजार* थानेआगरा उत्तर प्रदेश में है,,,दया अगर आपके अंदर है तो इसे इगनोर मत करना ।
Image
लॉकडाउन  में  भी  बेच रहे थे शराब , पांच लोग गिरफ्तार । 
निजी विद्यालयों कॉन्वेंट स्कूलों की फीस ना जमा किए जाने के संबंध में मांग
Image