यूपी के पूर्व डीजीपी का विवादित पोस्ट, '84 में सिख दंगा नहीं, राजीव गांधी के आदेश पर हुआ था नरसंहार'

सिख दंगों को लेकर राजीव गांधी के सलाहकार रहे सैम पित्रोदा के बयान 'जो हुआ सो हुआ' के बाद पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह ने इस आग में घी डालने का काम किया है। उन्होंने फेसबुक पेज पर पोस्ट किया है कि 1984 में सिख दंगा नहीं राजीव गांधी के आदेश पर उनके चुने हुए विश्वास पात्र कांग्रेसी नेताओं द्वारा खुद खड़े होकर कराया गया नरसंहार था।
1980 बैच के आईपीएस और उत्तर प्रदेश के डीजीपी रहे सुलखान सिंह ने लिखा है कि 'इंदिरा गांधी की हत्या के दिन 31 अक्तूबर 1984 को मैं पंजाब मेल ट्रेन से लखनऊ से वाराणसी जा रहा था। 
ट्रेन अमेठी स्टेशन पर खड़ी थी, उसी समय एक व्यक्ति जो वहीं से ट्रेन में चढ़ा था, उसने बताया कि इंदिरा गांधी को गोली मार दी गई। वाराणसी तक कहीं कोई बात नहीं हुई। वाराणसी में भी अगले दिन सुबह तक कुछ नहीं हुआ।
उसके बाद योजनाबद्ध तरीके से घटनाएं की गईं। अगर जनता के गुस्से का 'आउट बर्स्ट' होता तो दंगा फौरन शुरू हो जाता।' सुलखान सिंह का दावा है कि बाकायदा योजना बनाकर नरसंहार शुरू किया गया। उन्होंने तत्कालीन कांग्रेसी नेता भगत, टाइटलर, माकन, सज्जन कुमार मुख्य ऑपरेटर थे। 



राजीव गांधी के खास विश्वासपात्र कमलनाथ मॉनिटरिंग कर रहे थे। उन्होंने आगे लिखा है कि नरसंहार पर राजीव गांधी का बयान और उन सभी कांग्रेसियों को संरक्षण के साथ-साथ अच्छे पदों पर तैनात करना उनकी संलिप्तता के जनस्वीकार्य सबूत हैं। राजीव गांधी की मृत्यु के बाद भी कांग्रेस सरकारों द्वारा इन व्यक्तियों को संरक्षण तथा पुरस्कृत करवाए इन सबकी सहमति दर्शाता है।
उधर, कानपुर में हुए सिख दंगों की जांच के लिए गठित एसआईटी के प्रमुख पूर्व डीजीपी अतुल ने कहा है कि अगर सुलखान सिंह के पास ऐसा कोई सुबूत है तो वह सरकार के सामने या फिर सीधे एसआईटी के सामने आ कर अपना पक्ष रखें।  इस बारे में सुलखान सिंह का पक्ष जानने के लिए उनसे बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।


Popular posts
स्वच्छता के प्रति जागरूक सफाई कर्मी  लाक डाउन के प्रति हम क्यो नही    
Image
धोखाधड़ी कर फ़र्ज़ी नाम से फ़ाइनेंस कराकर मोटरसायकिल बेचने वाले दो अभियुक्त गिरफ़्तार , 77 बाइक बरामद
Image
कृषि सूचना तंत्र का सुदृढ़ीकरण एवं कृषक जागरूकता कार्यक्रम एवं नेशनल फूड सिक्यारिटी मिशन
Image
आप से हाथ जोड़कर प्रार्थना है इस फोटो को एक एक व्यक्ति एवं एक एक ग्रुप में पहुंचा दो ये बच्चा किसकी है कोई पता नही लग पा रहा है और ये बच्चा अभी *सदर बाजार* थानेआगरा उत्तर प्रदेश में है,,,दया अगर आपके अंदर है तो इसे इगनोर मत करना ।
Image
सांसद ने आगरा एक्सप्रेस-वे पर लंच पैकेट किया वितरण
Image