श्रद्वालुओं व राहगीरों में मारपीट के बाद पुलिस ने चलाई लाठी, छह घायल

 




    बाराबंकी। दुर्गा प्रतिमा विसर्जन कर लौट रहे ग्रामीणों से रास्ते में हुई मारपीट मामले में पुलिस ने जब कार्रवाई नहीं की तो लोगों ने थाने का घेराव कर दिया। इससे नाराज पुलिस कर्मियों ने सभी को दौड़ा-दौड़ाकर लाठीचार्ज कर भगा दिया। इसके बाद लोग शांत हुए। ग्रामीणों के बीच हुई मारपीट में छह लोग घायल हुए हैं। पुलिस ने दोनों पक्षों के खिलाफ केस दर्ज किया है।सतरिख थाना क्षेत्र के करखा गांव के लोग गोमती नदी के सैलानी माता घाट से प्रतिमा विसर्जन करके मंगलवार की शाम घर लौट रहे थे। तभी मौथरी गांव निवासी सुमित पिकअप लेकर निकला। इस दौरान पिकअप से ट्रैक्टर टकरा गया।इसी बात को लेकर दोनो पक्षों में हुए विवाद के बाद जमकर मारपीट हुई। इस मारपीट में दोनों पक्ष के शेष वर्मा, लाला, सुमित, सुशील व अनुराग आदि घायल हो गये। घायलों को सीएसची में भर्ती कराया गया।लोगों का मानना है कि प्रतिमा विसर्जन के लिए जाने के दौरान और आने के दौरान साथ में पुलिस बल न होने के कारण यह मारपीट हुयी है। इसके बाद जब इसकी शिकायत करने लोग थाने पहुंचे तो देर रात तक पुलिस ने सुनवाई नहीं की।इससे नाराज लोगों ने देर रात थाने में पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस ने ग्रामीणों पर लाठीचार्ज करते हुए खदेड़ दिया। प्रभारी निरीक्षक ध्रुव कुमार का कहना है कि मारपीट के मामले में दोनों पक्ष के लोगों पर केस दर्ज है। थाना परिसर में ग्रामीण अभद्रता कर रहे थे इससे उन्हेें समझा-बुझाकर भेजा गया है।कोतवाली देवा क्षेत्र के ग्राम विनोवा व जवाहिरपुर के लोगों के बीच मामूली बात पर मारपीट हो गई। मंगलवार को प्रतिमा विसर्जन के लिए जा रहे जवाहिरपुर के लोगों को प्रतिमा विसर्जित कर लौट रहे विनोव ग्राम के लोगों ने रास्ता नहीं दिया।इसी बात को लेकर दोनों पक्षों में मारपीट हो गयी। मारपीट में विनोव ग्राम के तीन लोग घायल हो गए। पुलिस मामले की जांच कर रही है। वहीं थाना लोनीकटरा क्षेत्र के पतुरिया खेड़ा गांव में भी दो लोगों में प्रतिमा विसर्जन के दौरान मामूली मारपीट हो गई।पुलिस ने मामले में रिपोर्ट दर्ज की है। वहीं मसौली थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी लोगों ने पड़ोस के गांव के लोगों पर प्रतिमा विसर्जन यात्रा में शामिल महिलाओं व युवतियों से अभद्रता करने का आरोप लगाते हुए पुलिस से शिकायत की है।