सरकार से बोली शिवसेना- अर्थव्यवस्था पर मनमोहन सिंह की सलाह मानना देशहित में
महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी की सहयोगी शिवसेना ने देश में मौजूदा आर्थिक मंदी पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का समर्थन किया है, मनमोहन ने हाल ही में कहा था कि मोदी सरकार के कुप्रबंधन की वजह से अर्थव्यवस्था की स्थिति इतनी खराब हुई है। शिवसेना ने केंद्र सरकार को कहा कि मनमोहन सिंह की बात सुनना देशहित में है। 



शिवसेना की ओर से पूर्व प्रधानमंत्री और अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह का समर्थन ऐसे समय में आया है जब केंद्र सरकार ने अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर मनमोहन सिंह द्वारा की गई आलोचना को खारिज कर दिया है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में सरकार को पूर्व पीएम की बात पर ध्यान देने को कहा है साथ ही इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करने की सलाह दी है।


बता दें कि पिछले सप्ताह पूर्व प्रधानमंत्री ने अर्थव्यवस्था पर चिंता जताते हुए कहा था कि अर्थव्यवस्था की हालत बहुत गंभीर है। पिछली तिमाही में विकास दर पांच फीसदी इस बात का संकेत देती है कि अर्थव्यवस्था में कितना धीमापन है। 
भारत की अर्थव्यवस्था में तेज गति से बढ़ने की क्षमता है लेकिन मोदी सरकार के कुप्रबंधन होने की वजह से देश में मंदी के हालात है। उन्होंने आगे कहा कि नोटबंदी और जीएसटी की वजह से हमारी इकॉनामी को जो नुकसान हुआ है, उससे देश अभी तक उबर नहीं पाया है। 
हालांकि, सरकार ने मनमोहन सिंह की आलोचना को खारिज करते हुए कहा था कि वह उनके विश्लेषण से इत्तेफाक नहीं रखता है क्योंकि अब भारत दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है जो उनके कार्यकाल में 11वें पायदान पर थी। 
सामना में कहा गया कि अर्थव्यवस्था सुस्त है। सरकार को समझना चाहिए कि कश्मीर और आर्थिक मंदी दो अलग-अलग मुद्दे हैं। मनमोहन सिंह जैसे विद्वान व्यक्ति को आर्थिक मंदी को लेकर कोई राजनीति नहीं करनी चाहिए और साथ ही अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए विशेषज्ञों की भूमिका होनी चाहिए। सरकार का मनमोहन सिंह की सलाह सुनना देश के हित का मसला है यानी इसमें देशहित हैं।