पति ही निकला बुटीक संचालिका कामना का हत्यारा, पत्नी की हत्या से पहले करवाई थी एक और हत्या

अवैध रिश्तों के शक में पति ने सुपारी देकर कराया कामना और रिंकू का कत्ल अशोक का दोस्त और उसका भाई गिरफ्तार, पुलिस घेरे में आरोपी पति का उपचार कामना की हत्या में रिंकू को फंसाने को सुनियोजित तरीके से रची गई थी साजिश 



बुटीक संचालिका कामना रोहिल्ला की हत्या उसी के पति अशोक उर्फ कपिल रोहिल्ला ने अवैध रिश्तों के शक में सुपारी देकर कराई थी। पुलिस ने बुधवार को अशोक के  सरधना निवासी दोस्त और उसके छोटे भाई को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा कर दिया।

साथ ही यह भी खुलासा हुआ है कि अशोक जिस रिंकू नाम के रिश्तेदार पर हत्या का आरोप लगा रहा था, उसकी वह नवंबर में ही हत्या करा चुका है। उसके शव को राजस्थान के जंगल में फेंक दिया गया था। दोनों हत्याएं अशोक ने दो लाख रुपये की सुपारी देकर कराई थी। 9 अगस्त की रात को हुई थी कामना की हत्रिष्ठ पुलिस अधीक्षक अरुण मोहन जोशी ने बताया कि पुलिस ने कई दिन की भागदौड़ के बाद माता मंदिर रोड पर हुई कामना रोहिल्ला की हत्या की गुत्थी सुलझा दी है। कामना की हत्या के दौरान पेट में गोली लगने से घायल पति अशोक की कहानी पर पुलिस को शुरू से ही शक था।





कामना के परिजनों और अन्य लोगों से पूछताछ में यह पता चला कि दोनों के बीच एक महिला को लेकर झगड़ा होता था। उधर, हत्या में नामजद कराया गया रिंकू नवंबर 2018 से किसी के संपर्क में नहीं था। जांच में पुलिस के हाथ मेरठ के सरधना का एक मोबाइल नंबर लगा।




ना-नकुर के बाद दोनों भाइयों ने कामना की हत्या की बात स्वीकारी



इस नंबर की लोकेशन घटना और घटना से एक दिन पहले शहर में थी। घटना के बाद से यह नंबर स्विच ऑफ था। सुबूत जुटाने के बाद एसओ नेहरू कालोनी दिलबर नेगी ने मेरठ के सरधना रोड से अशोक के दोस्त दीपक शर्मा और उसके भाई गौरव उर्फ गोलू शर्मा को हिरासत में लिया। ना-नकुर के बाद दोनों भाइयों ने कामना की हत्या की बात स्वीकार कर ली।
एसएसपी ने बताया कि अशोक रोहिल्ला ने अपने दोस्त दीपक शर्मा और छोटे भाई गौरव शर्मा के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची थी। गौरव 28 अगस्त को ही घटना अंजाम देने अशोक के घर आ गया था।




गौरव की निशानदेही पर डीवीआर और 15 हजार रुपये बरामद



उस रात मौका नहीं मिलने पर 29 अगस्त को सोेते समय पहले कामना रोहिल्ला को गोली मारी गई। इसके बाद तय साजिश के तहत अशोक के पेट में गोली मारी गई, ताकि किसी को शक न हो। इसके बाद गौरव डीवीआर लेकर कार से सरधना चला गया था। हत्या में प्रयुक्त पिस्टल अशोक ने अपने पास रख लिया था।
गौरव की निशानदेही पर डीवीआर और 15 हजार रुपये बरामद किए गए हैं। कामना की हत्या करने के बाद गौरव 30 हजार रुपये लेकर गया था। इनमें से 15 हजार रुपये वह खर्च कर चुका है। एसपी सिटी श्वेता चौबे और सीओ डालनवाला जया बलूनी इस दौरान मौजूद रहीं।  




गला दबाकर की थी रिंकू की हत्या



कामना से पहले अशोक ने दीपक, गौरव और परवेज उर्फ बसरू निवासी सरधना मेरठ के साथ मिलकर अपने रिश्तेदार रिंकू उर्फ अजय वर्मा का मर्डर कराया था। तीन नवंबर 2018 को अशोक ने रिंकू ने अपने जन्मदिन की दावत में सहस्त्रधारा रोड स्थित एक मित्र के आवास पर बुलाया था, जहां पर रात में पार्टी हुई। चार नवंबर की सुबह नौकरी दिलाने के बहाने गौरव और परवेज उसे लेकर राजस्थान ले गए। अशोक ने उन्हें कार बुक कराकर दी थी। रास्ते में रिंकू को शराब में जहर दे दिया। बाद में गला दबाकर उसे मारने के बाद दोनों शव को चुरू की झाड़ियों में फेंककर आ गए थे। रिंकू के घर से बेदखल होने के कारण किसी ने उसे ढूंढने का प्रयास नहीं किया। इस हत्या के बाद आरोपियों का हौसला और बढ़ गया और योजनाबद्ध तरीके से कामना की हत्या को अंजाम दे दिया।

रिंकू की हत्या को लेकर राजस्थान पुलिस से संपर्क
देहरादून। एसपी सिटी श्वेता चौबे ने बताया कि गौरव को राजस्थान ले जाकर यह पता लगाया जाएगा कि मारने के बाद रिंकू का शव कहां फेंका गया था। राजस्थान पुलिस से संपर्क कर यह जानने की कोशिश की गई है कि नवंबर 2018 के पास कोई शव तो नहीं मिला है। शव मिला था तो क्या पहचान हुई। राजस्थान पुलिस ने किसी तरह का मुकदमा दर्ज तो नहीं किया है। उन्हाेंने बताया कि कामना हत्याकांड में जेल गए गौरव शर्मा उर्फ गोलू को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। जरूरी हुआ तो आरोपी को राजस्थान ले जाकर यह पता लगाया जाएगा कि रिंकू का शव कहां फेंका गया है। 
पुलिस निगरानी में चल रहा अशोक का उपचार
देहरादून। एसपी सिटी श्वेता चौबे ने बताया कि अस्पताल में भर्ती आरोपी पति अशोक रोहिल्ला का पुलिस निगरानी में उपचार चल रहा है। घटना में अशोक और परवेज को वांछित किया गया है। चिकित्सकों की राय के बाद आरोपी को हिरासत में लेकर कोर्ट में पेश कर दिया जाएगा। परवेज की गिरफ्तारी को पुलिस टीम मेरठ भेजी गई है। अशोक से पूछताछ के बाद ही हत्या में प्रयुक्त पिस्टल के बारे में जानकारी मिल पाएगी। कामना की हत्या की साजिश एक साल पुरानी





एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने आरोपी दीपक और गौरव शर्मा के हवाले से बताया कि अशोक अपनी पत्नी की हत्या की योजना करीब एक साल से बना रहा था, लेकिन वह परवान नहीं चढ़ पा रहा थी। अशोक अपनी बेटी को भी नाजायज रिश्तों का परिणाम मानता था। उसे कामना के एक फाइनेंसर से अवैध संबंधों का शक था। दूसरा कामना ने पूरी संपत्ति पर एकाधिकार कर रखा था। अशोक पर काफी कर्ज भी बढ़ गया था। 

गौरव ने शादी का खर्च जुटाने को ली सुपारी
एसपी सिटी श्वेता चौबे ने बताया कि रिंकू की हत्या के बाद अशोक अपने दोस्त के भाई गौरव और परवेज पर पत्नी कामना की हत्या का दबाव बना रहा था। दोनों हत्याओं के लिए दो लाख रुपये की सुपारी ली गई थी। एक लाख रुपये आरोपी पहले ले चुके थे। परवेज लगातार कामना की हत्या को रिस्की बता रहा था। गौरव की नवंबर माह में शादी है। इसके लिए उसे धन की जरूरत थी। गौरव ने सीधे ही अशोक से बात कर हत्या की साजिश को अंजाम दिया। गौरव 30 हजार रु पये में पिस्टल खरीदकर लाया था। 

यह थी घटना
नेहरू कालोनी थाना क्षेत्र के माता मंदिर रोड निवासी बुटीक संचालिका कामना रोहिल्ला की 29 अगस्त की रात को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जबकि कामना के पति अशोक उर्फ कपिल रोहिल्ला गोली लगने से जख्मी हो गए थे। हत्यारों ने घर से कीमती जेवरात और सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर उठाकर ले गए थे। घायल अशोक ने इस मामले में अपने रिश्तेदार रिंकू उर्फ अजय वर्मा निवासी शास्त्रीनगर थाना रायपुर को नामजद कराया था। हालांकि कामना के परिजन अशोक रोहिल्ला पर संदेह जता रहे थे।