करबला के पैग़ाम को आम आवाम तक पहुंचाएं अज़ादार होने का फ़र्ज़ निभाएं-मौलाना मुराद रज़ा

दो मुहर्रम को हुआ जगह जगह मजलिसों का एहतेमाम

मुहाफ़िज़े शरीयत ज़िन्दा है,दीन को कोई ख़तरा नहीं जो इसे मिटाना चाहेगा वो ख़ुद मिट जायेगा-मौलाना जाबिर जौरासी

इश्के औलाद ए नबी सबसे बड़ी ताकत है-मौ.ज़मीर



 

बाराबंकी । करबला के पैग़ाम को आम आवाम तक पहुंचाएं अज़ादार होने का फ़र्ज़ निभाएं यह बात मौलाना गुलाम अस्करी हाल में आली जनाब मौलाना मुराद रज़ा साहब क़िबला ने कही ।उन्होंने यह भी कहा अली के मानने वाले गैरों पर भी ज़ुल्म देख कर ग़मग़ीन होते हैं । वो अबू सुफ़ियान वाले हैं जो हुसैनियों पर ज़ुल्म देख कर ख़ुश होते हैं।अमल देखना है तो करबला वालों को देखो ,उनके किरदार अपने किरदार में उतारें और आखेरत संवारें। दो मुहर्रम को हुआ जगह जगह मजलिसों का एहतेमाम ।वहीं इमामबाड़ा मीर मासूम अली कटरा में मजलिस को ख़िताब करते हुए आली जनाब मौलाना जाबिर जौरासी ने कहा  मुहाफ़िज़े शरीयत ज़िन्दा है  दीन को कोई ख़तरा नहीं , जो इसे मिटाना चाहेगा वो ख़ुद मिट जायेगा। करबला वालों के मसायब पढ़े जिसे सुनकर मोमनीन रो पड़े। वहीं आग़ा फ़य्याज़ मियां जानी के अज़ाख़ाने में मजलिस को ख़िताब करते हुए आली जनाब मौ.ज़मीर ने कहा  इश्के औलाद ए नबी सबसे बड़ी ताकत है । गूँजने लगी हर तरफ या हुसैन  या हुसैन की सदाये ।  भ,मोहसिन साहब के अज़ाख़ाना रसूलपुर में आली जनाब मौलाना सज्जाद साहब ने मजलिस को खिताब किया बाक़र नक़वी व सरवर अली रिज़वी ने नज़रानये अकी़दत पेश की। कर्बला सिविल लाइन  में नमाज़े जोहरैन अदा कराने के बाद मजलिस को आली जनाब मौलाना सै० मो. मुज्तबा "मीसम" साहब ने ख़िताब  किया । आखिर में कर्बला वालो के मसायब पेश किये जिसे सुनकर मोमनीन रो पड़े । अजमल किंतूरी ,बाक़र नक़वी,सरवर अली रिज़वी,ने नज़रानये अकीदत पेश की।  कामयाब,अयान अब्बास,अमान अब्बास व अयान ने नज़रानये अकीदत पेश किया । अंजुमन सदाये हुसैन व अंजुमन गुंचये अब्बासिया अंजुमन गुलामे अस्करी अंजुमन इमामिया ने नौहा ख्वानी की । कर्बला वालों के मसायब पेश किये गए । । मजलिसों का सिलसिला आगे बढ़कर तक़ैय्या बेगम इमामबाड़ा बेगमगंज, इमामबाड़ा जनाबे ज़ैनब बेगमगंज, मरहूम शरीफुल हसन  व नजमुल हसन के अज़ाख़ाना होते हुए यह सिलसिला  डॉ असद अब्बास के आवास अज़ाख़ाना मरहूम अतहर हुसैन एडवोकेट के पहुंचा जहाँ मजलिस को आली जनाब मौलाना मो.रज़ा ज़ैदपुरी ने खिताब किया ।इसके बाद नेहरू नगर हैदर हाउस मरहूम एजाज साहब के अज़ाख़ाना होते हुए कंपनी बाग़ मरहूम आले मोहम्मद,अतहर साहब व लाइन पुरवा में नाज़िम साहब के इमामबाड़े के बाद तकीयुल हसन ज़ैदी के अज़ाख़ाने के बाद देर रात अस्करी नगर में नवाब साहब के अज़ाख़ाने में ख़त्म हुआ वही दूसरी तरफ तकिया ,मस्जिद इमामिया व पीरबटावन में भी मजलिस का सिलसिला देर रत चलता रहा जनपद के आलमपुर, मीरापुर , टिकरिया, असंद्रा, मिर्चिया, संगौरा, जरगावा, मोतिकपुर, सरैया,सराये इस्माईल,केसरवा,फतेहपुर,जैदपुर,बदोसराय,किन्तूर,मौथरी आदि जगहों पर भी मजलिस का सिलसिला जारी है हर ओर या हुसैन या हुसैन की सदाये गूँज रही है ।ये सिलसिला जारी रहेगा दस मोहर्रम तक।