23 हजार तो भूल जाइए, किसी का 32000 तो कहीं 27000 का हुआ चालान, वाहन चालक हो रहे हैरान

हाल ही लागू हुए नए मोटर व्हीकल एक्ट का उल्लंघन करना मंगलवार को दो वाहन चालकों को भारी पड़ गया। कागजात नहीं पाए जाने पर स्कूटी का 23 हजार का चालान कर दिया गया। लेकिन यह सिर्फ एक मामला नहीं है। ऐसे लगभग छह अलग-अलग वाकये पूरे दिल्ली-एनसीआर में हुए हैं जिसने वाहन चालकों की नींद उड़ा रखी है। मात्र 24 घंटे में 6 अलग-अलग मामलों में 32 हजार 500 से लेकर 10 हजार तक का चालान कट चुका है। पढ़ें वो मामले...


केस 1


दिल्ली के गीता कॉलोनी निवासी दिनेश मदान किसी काम के सिलसिले में गुरुग्राम जिला अदालत आए थे। इस दौरान कोर्ट रोड पर पुलिस ने बिना हेलमेट ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते पाए जाने पर उन्हें रुकवा लिया। ट्रैफिक पुलिस के क्षेत्रीय अधिकारी मनोज कुमार ने स्कूटी के मूल कागजात दिखाने को कहा तो वह नहीं दिखा पाए। इसके अलावा लाइसेंस व अन्य कागजात भी नहीं थे। इस पर बिना हेलमेट का एक हजार, बिना लाइसेंस के पांच हजार, बिना रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी) के पांच हजार, बिना इंश्योरेंस के दो हजार, बिना पॉल्यूशन सर्टिफिकेट के दस हजार के साथ  23 हजार का चालान थमाते हुए स्कूटी जब्त कर ली। इस पर दिनेश कुमार ने कहा कि उसकी स्कूटी की बाजार कीमत ही 15 हजार रुपये है ऐसे में वह 23 हजार का चालान नहीं भर पाएगा, लेकिन पुलिस ने उसकी नहीं सुनी।


32 हजार 500 रुपये का चालान थमाते हुए ऑटो जब्त कर लिया


गुरुग्राम के सिंकदरपुर चौक के पास ऑटो चालक मोहम्मद मुस्तकिन को लालबत्ती जंप करते हुए पकड़े जाने पर ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने जांच की तो एक भी दस्तावेज नहीं पाया गया। इस  पर उसे 32 हजार 500 रुपये का चालान थमाते हुए ऑटो जब्त कर लिया। मूलरूप से पश्चिम बंगाल निवासी मोहम्मद मुस्तकिल डीएलएफ फेज-3 में बीते 15 साल से किराये पर रहता है। उसने बताया कि दो माह पहले ही उसने ऑटो चलाना शुरू किया है।