ये मेरा तुम से वादा है, जो बोया है सो काटोगे तुम देखोगे..." नज्म से शुरू हुई फिदा हुसैन की महफ़िल ने लोगों को वर्तमान पर सोचने को मजबूर कर दिया ।


बाराबंकी 19 अगस्त । "ये मेरा तुम से वादा है, जो बोया है सो काटोगे तुम देखोगे..." नज्म से शुरू हुई फिदा हुसैन की महफ़िल ने लोगों को वर्तमान पर सोचने को मजबूर कर दिया ।
मौका था आँखेँ इण्डिया द्वारा नगर के लोहिया भवन लखपेड़ाबाग में गोरखपुर विश्व विद्यालय हिंदी विभाग प्रोफेसर डॉ राजेश मल्ल की अध्यक्षता में शायर डॉ फ़िदा हुसैन की गजलों को समर्पित एक हसीन शाम का ।प्रदीप सारंग ,मो सबाह  व हरिप्रसाद वर्मा द्वारा आयोजित इस साहित्यिक आयोजन में डॉ हुसैन ने मजदूरों और किसानों की दशा और व्यथा कुछ यूं बयां किया-
"महलों के बनाने वाले खुद झोपड़ पट्टी में रहते हैं
खेतों को मवेशी चरते हैं और भूख  से इन्सां मरते हैं..."
    शेरों शायरी और गजलों की इस  महफ़िल में लखनऊ के मशहूर शायर  मलिक जाबेद ,राम प्रकाश बेखुद ,संजय मिश्रा, मो मूसा खां अशांत ,आदर्श बाराबंकवी , रेहान अल्वी आदि ने भी कलाम पेश किए। 
      इस कार्यक्रम में कर्मचारी नेता बाबू लाल वर्मा ,रालोद नेता वृजेश सोनी ,वीरेंद्र वर्मा नेवली, सदानन्द भनौली ,अब्दुल खालिक ,सतेंद्र व अंशिका श्रीनिवास प्रमुख रूप से उपस्थित रहे ।



Popular posts
आप से हाथ जोड़कर प्रार्थना है इस फोटो को एक एक व्यक्ति एवं एक एक ग्रुप में पहुंचा दो ये बच्चा किसकी है कोई पता नही लग पा रहा है और ये बच्चा अभी *सदर बाजार* थानेआगरा उत्तर प्रदेश में है,,,दया अगर आपके अंदर है तो इसे इगनोर मत करना ।
Image
धोखाधड़ी कर फ़र्ज़ी नाम से फ़ाइनेंस कराकर मोटरसायकिल बेचने वाले दो अभियुक्त गिरफ़्तार , 77 बाइक बरामद
Image
कृषि सूचना तंत्र का सुदृढ़ीकरण एवं कृषक जागरूकता कार्यक्रम एवं नेशनल फूड सिक्यारिटी मिशन
Image
The sword of india news paper
Image
स्वच्छता के प्रति जागरूक सफाई कर्मी  लाक डाउन के प्रति हम क्यो नही    
Image