दुष्कर्म पीड़िता के चाचा के पैरोकार पर विधायक कुलदीप सेंगर के आदमियों ने किया हमला, भाग कर बचाई जान

उन्नाव विधायक प्रकरण में दुष्कर्म पीड़िता के चाचा के मुकदमों के एक मात्र पैरोकार उसके ड्राइवर पर गुरुवार रात जानलेवा हमला किया गया। वह पीड़िता के वकील के सहायक अधिवक्ता से उन्नाव शहर से मिलकर गांव स्थित घर लौट रहा था। पांच हमलावरों ने पहले रास्ते में उसका घेराव किया फिर देर रात असलहों से लैस होकर उसके घर पहुंच पीटा। शुक्रवार सुबह पीड़ित ने एसपी को प्रार्थनापत्र देकर विधायक कुलदीप सेंगर के पांच सहयोगियों पर रिपोर्ट दर्ज करने और सुरक्षा की मांग की। एसपी के निर्देश पर पुलिस ने तीन नामजद व दो अज्ञात के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू की वहीं एलआईयू टीम ने पीड़ित को बुलाकर उसके बयान दर्ज किए हैं। दुष्कर्म पीड़िता के चाचा के जेल जाने और 28 जुलाई को रायबरेली में हुए रहस्यमय हादसे में उसकी पत्नी (पीड़िता) की चाची की मौत के बाद उसका रिश्तेदार (ड्राइवर) ही सभी मुकदमों की पैरवी कर रहा है।मुकदमों के सिलसिले में उसका अक्सर पीड़िता के वकील (दिल्ली एम्स में भर्ती) के सहायक अधिवक्ता के उन्नाव कचहरी स्थित बस्ते पर आना जाना था। एसपी को दिए गए प्रार्थनापत्र में पैरोकार ने बताया है कि गुरुवार को भी वह सहायक अधिवक्ता के बस्ते 



शाम करीब छह बजे बाइक से अपने गांव लौट रहा था। रास्ते में बेलसी चौराहे पर हो रहा दंगल (कुश्ती) देखने के लिए रुक गया। शाम 7 बजे करीब बाइक से घर की ओर जा रहा था। रास्ते में दो बाइकों में सवार विधायक कुलदीप  सेंगर के सहयोगी माखी के गढ़ी मोहल्ला निवासी पांच लोगों ने उसकी बाइक में टक्कर मारकर गिराने की कोशिश की।

उसने अपनी बाइक रोक दी तो पांचों ने पीड़िता के चाचा की पैरोकारी करने पर जान से मारने की धमकी दी। किसी तरह जान बचाकर वह घर पहुंचा।  रात 10 बजे असलहों से लैस होकर विधायक के चारों सहयोगी फि र उसके घर पर आए और  पीटना शुरू कर दिया। हत्या के इरादे से कनपटी पर तमंचा तान इसी बीच गांव के कुछ लोगों के पहुंचने पर पांचों हमलावर भाग निकले। उसने 100 नंबर पर पुलिस को सूचना दी। पीआरवी मौके पर पहुंची और जांचकर लौट गई। शुक्रवार सुबह पीड़ित ने एसपी एमपी वर्मा से रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई और सुरक्षा की मांग की। एसपी एमपी वर्मा ने एसओ माखी को रिपोर्ट दर्ज करने के निर्देश दिए।



साथ ही पीड़ित को शीघ्र सुरक्षा देने का भरोसा दिलाया। माखी एसओ राजबहादुर ने बताया कि तहरीर के आधार पर बालेंद्र सिंह पुत्र राजबक्श सिंह, रोहित सिंह पुत्र चंद्रभान सिंह, धर्मेंद्र सिंह पुत्र नन्हकऊ सिंह व दो अज्ञात  निवासी गढ़ी माखी के विरुद्ध बलवा, जान की धमकी, मारपीट और गाली-गलौज की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई है।