बिना लाइसेंस चला रहा नसिंग होम संचालक पर केस, गिरफ्तार

रामसनेहीघाट (बाराबंकी)। जिलाधिकारी के निर्देश पर बिना लाइसेंस अस्पतालों के खिलाफ अभियान के तहत रामसनेहीघाट एसडीएम ने पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ तीन अस्पतालों में छापा मारा। एक अस्पताल में कोई भी अभिलेख न दिखा पाने पर नर्सिंग होम संचालक डॉक्टर एमएस खान को पुलिस के हवाले कर दिया। सीएचसी प्रभारी की तहरीर पर संचालक के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। एसडीएम ने तीनों अस्पतालों की रिपोर्ट डीएम को भेज कर कार्रवाई के लिए कहा है


बुधवार की दोपहर अचानक एसडीएम राजीव कुमार शुक्ला सीएचसी अधीक्षक संदीप तिवारी तथा कोतवाल आलोक मणि त्रिपाठी के साथ भिटरिया स्थित पब्लिक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर पर छापा मारा। यहां पर मौजूद डॉक्टर एमएस खान व शमीम से अस्पताल के बारे में टीम द्वारा पूछताछ की। मौके पर किसी प्रकार के अभिलेख न मिलने पर एसडीएम ने संचालक को हिरासत में लेने के निर्देश दिए। छापेमारी के दौरान अस्पताल में मिले छह मरीजों में से दो महिलाओं को तत्काल एंबुलेंस से बाराबंकी महिला अस्पताल भिजवा दिया गया।


चार अन्य लोगों को इलाज के लिए रामसनेहीघाट सीएचसी में भर्ती करा दिया गया है। सीएचसी अधीक्षक संदीप तिवारी की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी है। इस हॉस्पिटल को एसडीएम ने सील करने के आदेश दिए परंतु अस्पताल के पिछले हिस्से में एमएस खान का परिवार रहने के कारण इसे तत्काल सील नहीं किया जा सका। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि परिवार को अन्यत्र शिफ्ट होने के निर्देश दिए गए हैं इसके बाद अस्पताल को सील कर दिया जाएगा।
इससे पूर्व एसडीएम ने श्री राम हॉस्पिटल में छापा मारा जहां पर अल्ट्रासाउंड मशीन तो मिली परंतु अल्ट्रासाउंड चिकित्सक मौके पर नहीं मिले। अल्ट्रासाउंड चिकित्सक को तलब किया। उप जिलाधिकारी ने भिटरिया स्थित आकांक्षा नर्सिंग होम पर भी छापा मारा। जहां पर बायो मेडिकल वेस्ट निस्तारण की समुचित व्यवस्था न होने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए बायो मेडिकल वेस्ट के निस्तारण सिस्टम लगाने के निर्देश दिए।