आशा योजना लागू किये जाने के वर्षगाॅठ के रूप में आशा दिवस मानाया जाता रहा है,

प्रतिवर्ष 23 अगस्त को आशा योजना लागू किये जाने के वर्षगाॅठ के रूप में आशा दिवस मानाया जाता रहा है, परन्तु दिनांक 23 अगस्त, 2019 को जन्माष्टमी का पर्व होने के कारण दिनांक 27 अगस्त, 2019 को ''आशा सम्मेलन'' के रूप में राजकीय इण्टर कालेज, बाराबंकी के आडिटोरियम के प्रांगण में मनाया गया। ''आशा सम्मेलन'' का उद्घाटन मा0 सांसद श्री उपेन्द्र सिंह रावत ने मा0 विधायक दरियाबाद श्री सतीश चन्द्र शर्मा, मा0 विधायक रामनगर, श्री शरद कुमार अवस्थी एवं जिला अधिकारी डा0 आदर्श सिंह एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 रमेश चन्द्र के साथ दीप प्रज्वलित कर किया।
इस अवसर पर मा0 सांसद महोदय, श्री उपेन्द्र सिंह रावत ने अपने सम्बोधन मे कहा कि आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कार्यक्रम की एक अत्यन्त महत्वपूर्ण कड़ी है जिसके द्वारा देश भर में स्वास्थ्य सेवाओं को ग्रामीण अंचलों तक पहुॅचाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में सवा लाख से अधिक आशाओं का चयन हो चुका है और वे अपना कार्य बड़ी निष्ठा व लगन से कर रही है। मुझे भरोसा है कि आप के प्रयासों से प्रदेश में मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में उल्लेखनीय कमी आयेगी तथा आप प्रदेश को प्रगति की ओर ले जाने में अपना योगदान करेंगी। उन्होंने आशाओं से कहा कि मेहनत व लगन से अपने गाॅव को एक स्वस्थ्य एवं खुशहाल गाॅव बनाने का प्रयास करें। मुझे उम्मीद ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि उत्तर प्रदेश की आशायें उत्कृष्ट कार्य करेगी तथा अन्य प्रदेशों के लिए एक मिसाल कायम करेगी, ताकि हमारे ग्रामवासी, खासकर समाज के कमजोर वर्ग के लोगों, महिलाओं और बच्चों को व्यापक स्तर पर सम्पूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएॅ प्रदान की जा सके। इस मिशन में ग्रामवासियों के बीच काम कर रही हमारी आशा बहुएँ गरीब व वंचित परिवारों को स्वास्थ्य सेवायें दिलाने का काम कर रही है।
इस अवसर पर जिला अधिकारी महोदय डा0 आदर्श सिंह ने कहा कि आशा सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य समुदाय में आशा की भूमिका को सुदृढ़ करना, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत संचालित कार्यक्रमों एवं नवीन योजनाओं के बारे में जानकारी दिया जाना है। आशाओं को इस बात का अहसास दिलाना है कि प्रदेश में संचालित स्वास्थ्य सेवाओं को दूरस्थ क्षेत्रों तक पहुॅचाने तथा समुदाय को प्रेरित करने में उनकी भूमिका अत्यन्त महत्वपूर्ण है।  
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 रमेश चन्द्र ने कहा कि देश भर में स्वास्थ्य सेवाओं को ग्रामीण अंचलों तक पहुॅचाने में आप आशा एक ऐसी महत्वपूर्ण कड़ी है। जो स्वास्थ्य सेवाओं और ग्रामवासियों के बीच तालमेल बैठाते हुए, अपने गाॅव की गरीब महिलाओं और बच्चों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएॅ दिला रही है। आशा सामुदायिक बैठकों और आपसी बातचीत से अपने समुदाय में स्वास्थ्य से जुड़ी तमाम भ्रान्तियों को दूर कर जागरूकता लायेगी और उन तक स्वास्थ्य सेवा का लाभ पहुॅचायेगी।
इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, आर0सी0एच0, डा0 महेन्द्र सिंह ने कहा आशा दिवस पर हमें याद दिलाता है कि किस तरह विगत दस वर्षो में अपने प्रदेश के सुदूर क्षेत्रो मे अवासित जनसमुदायंे विशेषकर वंचित वर्गो तक सरकार द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवाओं को पहुचाने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है, जिससे मातृ मृत्यु दर, शिशु मृत्यु दर एवं प्रजनन दर मे गिरावट आयी हैं।
सम्मेलन में आशाओं को विभिन्न स्वास्थ्य बिन्दुओं पर जानकारी देने के साथ-साथ प्रत्येक ब्लाक से श्रेष्ठ आशाओं को सम्मानित भी किया गया तथा सीतापुर से आये मुन्ना जादूगर द्वारा कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए। सम्मेलन मे जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, वेक्टर बार्न डिजीज, कुष्ठ व क्षय रोग की प्रदर्शनी भी लगाई गयी। सम्मेलन की व्यवस्था फाइलेरिया निरीक्षक श्री के0के0 गुप्ता द्वारा किया गया।
इस अवसर पर यूनीसेफ की डा0 नितिन खन्ना, जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री प्रकाश कुमार, अपर/उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डा0 जेता सिंह, डा0 सतीश चन्द्र, समस्त अधीक्षक, श्री रवि कुमार वर्मा, सिद्धार्थ सेन, कन्हैया लाल आदि मौजूद रहे।


Popular posts
वाराणसी : पिता ने तीन बेटियों के साथ की आत्महत्या, सट्टेबाजी के कारण डूबा था लाखों के कर्ज में
Image
बाबा हरि शंकर दास जी महाराज कि पुण्य स्मृति
Image
आप से हाथ जोड़कर प्रार्थना है इस फोटो को एक एक व्यक्ति एवं एक एक ग्रुप में पहुंचा दो ये बच्चा किसकी है कोई पता नही लग पा रहा है और ये बच्चा अभी *सदर बाजार* थानेआगरा उत्तर प्रदेश में है,,,दया अगर आपके अंदर है तो इसे इगनोर मत करना ।
Image
रिक्त पदों पर पंचायत उपचुनाव का जायजा लेने पहुंचे डीएम व एसपी
Image
चिन्मयानंद केसः पीड़िता की जमानत याचिका पर सुनवाई टली, पीड़िता के वकील ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप