गर्मी के मद्देेनजर तालाबों मे पानी सुनिश्चित करें: सीडीओ मेघा रूपम

 


बाराबंकी। जहां प्रशासन की लापरवाही से तमाम पुराने तालाब सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बावजूद लोगों के अवैध कब्जे और भूमाफियाओं व राजस्व विभाग की मिलीभगत भ्रष्टाचार के चलते मात्र कागजों में ही बचे हैं जबकि हकीकत में अधिकांश तालाब कहां गायब हो गए लोगों को ढ़ूंूढ़े नहीं मिल रहे। लेकिन पर्यावरण संरक्षण पर गंभीर सीडीओ ने अपनी बैठक में बचे तालाबों में पानी की अनिवार्यता को लेकर बैठक कर दिशा निर्देश बुधवार को जारी किए हैं। 


कलेक्ट्रेट स्थित लोक सभागार में मुख्य विकास अधिकारी मेधा रूपम की अध्यक्षता में सम्भावित सूखे से सम्बन्धित तैयारियों की बैठक आहूत हुई। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी ने सम्बन्धित विभागों को सूखे से निपटने के लिए पहले से तैयार रहने के निर्देश दिये। उन्होंने सिंचाई विभाग को जनपद के सभी नलकूपों को यथाशीघ्र ठीक कराने के निर्देश देते हुए कहा कि खराब नलकूपों की मरम्मत एवं रिबोर का कार्य अतिशीघ्र पूर्ण कर लिया जाये। उन्होंने सभी सम्बन्धित तालाबों एवं पोखरों को भरने का कार्य पूर्ण करें।


मुख्य विकास अधिकारी ने सभी सम्बन्धित अधिकारी नलकूपों की स्थित की क्राॅस चेकिंग करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि नहरों को रोस्टर के अन्तर्गत अवश्य चलाया जाये। 30 तालाब 15 मई से भरे जायेंगे। गौ आश्रय स्थल हो, तो पानी की उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाये। खराब हैण्डपम्पों की लिस्ट के साथ खराब हैण्डपम्पों की मरम्मत एवं रिबोर का काम ससमय सुनिश्चित कराने हेतु कार्यवाही पूर्ण की जाये। सीडीओ ने पशुपालन विभाग को जनपद में पशुओं में होने वाले रोग से बचाव के लिए टीकाकरण का कार्य को प्रभावी ढ़ग से चलाने के निर्देश दिये। 


बैठक के दौरान अपर जिलाधिकारी संदीप कुमार गुप्ता, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ0रमेश चन्द्र, उपजिलाधिकारी अभय पाण्डेय, जिला कृषि अधिकारी सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।